Hindi Short Story for Class 1 - जादुई कबूतर - Jadui Kabutar

Hindi Short Story for Class 1 - जादुई कबूतर - Jadui Kabutar


Hello dear visitors, here I am sharing Hindi short story for class 1 titled as Jadui Kabutar. This is a Hindi short story with moral. In the last of the story, you will get the moral value which you will learn from this Hindi Short Story for class 1. Hope you will enjoy this story and learn a lesson.


जादुई कबूतर - Jadui Kabutar - Hindi short story for class 1


Hindi Short Story for Class 1



एक गांव में एक लड़का रहता था। वह लड़का बहुत ही क्रूर और बदमाश था। ( Hindi Short Story for class 1 ) उसके अंदर बिल्कुल भी दया नहीं थी। वह जो भी पशु पक्षियों को देखता उनके प्रति हिंसक हो जाता। इसी प्रकार एक दिन उसने एक पेड़ पर बैठी प्यारी सी पक्षी को देखा। पक्षी देखने में बहुत ही प्यारी थी। जैसे ही उस लड़के हैं उस पक्षी को देखा वह उस पक्षी के पीछे हाथ धोकर पड़ गया। 


पक्षी पेड़ पर बैठी हुई थी। वह लड़का भी पेड़ पर चढ़ने लगा। ( Hindi short story for kids ) पक्षी वहां से उड़ गई परंतु लड़के ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। और अंततः वह पक्षी को पकड़ने में कामयाब रहा। उसने दोनों हाथों से इस प्यारी सी पक्षी को जकर कर रखा था। वह प्यारी पक्षी छटपताने लगी और उस लड़के से विनती करने लगी कि उसे छोड़ दें। उसके परिवार वाले उसकी प्रतीक्षा कर रहे होंगे। अगर वह घर नहीं गई तो उसके परिवार वाले परेशान हो जाएंगे।

उस पक्षी ने उस पर लड़के से बहुत विनती की परंतु इस लड़की पर उस प्यारी सी पक्षी के विनती का कोई असर नहीं हुआ। ( Short Story in Hindi with moral ) वह लड़का उस पक्षी को अपने घर ले गया और उसे कैद कर के रख दिया। उसने उसे कुछ खाने को नहीं दिया। कुछ दिनों में उस पक्षी की मृत्यु हो गई। तब उस लड़के ने उस पक्षी का मांस पका कर खा लिया।

Hindi Short Story for Class 1



उस लड़के के दिन ऐसे ही गुजरते थे। वह ऐसे ही जानवरों पर अत्याचार करता है। दिन ब दिन जानवरों पर उसके अत्याचार बढ़ते चले गए। दिन-ब-दिन और निर्दई होता चला गया। वह ऐसे ही कभी किसी पालतू जानवरों को मारता तो कभी किसी पक्षी को मारता तो कभी सड़क पर चल रहे जानवरों पर पत्थरों से प्रहार करने लगता। ऐसे ही इसके दिन गुजरते चले गए।


एक दिन वह जंगल से गुजर रहा था। वहां उसने एक कबूतर को देखा। कबूतर घांस पर दाना चुग रही थी। कबूतर को देखते ही वह लड़का उस कबूतर की तरफ बढ़ने लगा। वह लड़का इस कबूतर को भी पकड़ना चाहता था। वह धीरे-धीरे उस कबूतर की तरफ बढ़ा, बहुत कबूतर को पकड़ लिया। कबूतर को अपने हाथों में पकड़ कर बहुत खुश होने लगा। और जोर से चिल्ला कर कहने लगा अब तो मैं इस कबूतर को भी पका कर खा लूंगा। मैंने सुना है कबूतरों का मांस बहुत स्वादिष्ट होता है। 

तभी वहां एक चमत्कार हुआ और अगले ही पल वह कबूतर बहुत बड़ा हो गया और उसके पंजों में वह लड़का आ गया। दरअसल व कोई मामूली कबूतर नहीं था। वह एक जादुई कबूतर था। अब उस लड़के की हाथों में कबूतर नहीं बल्कि कबूतर के पंजे में वह लड़का था।

लड़का डर से कांपने लगा और कबूतर से प्रार्थना करने लगा कि वह उसे छोड़ दें। ( Hindi Short Story for Class 1 ) उसने कबूतर से बहुत विनती की कि उसे छोड़ दिया जाए। कबूतर जोर से हंसने लगा और बोला," तुम तो मुझे खाने वाले थे, पर अब मैं तुम्हें अपनी परिवार के साथ खाऊंगा।" इतना कहकर कबूतर उस लड़के को अपने पंजे में लिए वहां से उड़ गया। अपने परिवार के पास गया जहां उसकी जैसे ही और भी कई सारे बड़े कबूतर थे। वह लड़का उस कबूतर से विनती करने लगा कि उसे छोड़ दें। परंतु कबूतर ने उसकी एक न सुन

सीख:- 

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हम जैसा कर्म करेंगे हमें वैसा ही फल मिलेगा। आज हम जैसा दूसरों के साथ कर रही है कल वैसा ही हमारे साथ भी हो सकता है। और हमारी मदद करने के लिए भी कोई नहीं होगा। इसलिए हमेशा दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए चाहे वह इंसान हो या जानवर। 

Moral of this Hindi Short Story:-

From this story, we learn that we will get the same result as we do. The way we are doing with others today, the same can happen with us tomorrow. And there will be no one to help us. Therefore, one should always treat others well, be it human or animal.



Thanks a lot for reading this Hindi short story for class 1. I hope you liked this Hindi story for kids. If you liked any part of the short story please do comment and let me know. Please click below to read more:-

Post a comment

–>