Moral story in Hindi in short - झूठा तोता - Jhutha Tota

Moral story in Hindi in short - झूठा तोता - Jhutha Tota

Moral story in Hindi in Short :- Stories are the best teacher of kids. They learn many moral values from this type of moral stories in Hindi in short. Today I am here sharing a Moral story in Hindi in short titled as "Jhutha Tota". I hope you will like this Hindi short story with moral in short. 😊

झूठा तोता - Jhutha Tota - Moral Story in Hindi in short


Moral story in Hindi in short



एक जंगल में एक तोता रहता था। ( Moral story in Hindi in short ) उसकी एक बुरी आदत थी। वह बहुत डिंगे हांका करता था। हर बात को बढ़ा चढ़ा कर कहने की उसकी आदत थी। वह उरता उरता जहां भी जाता डींगे हाकने लगता। बहुत सारे लोगों ने उसे समझाया कि वो डिंगें हाकना बंद कर दे। परन्तु वो किसी की एक ना सुना। ( Hindi short story with moral )

 एक दिन वह उड़ता हुआ एक कोयल के पास पहुंचा और डींगे हांकने लगा। तोता कहता " तुम्हे पता है मै अभी अभी दावत से आरहा हूं। उस दावत में मैंने बहुत सारे स्वादिष्ट पकवान खाए। अलग अलग तरह की मिठाइयां भी थी।" ( Jhutha Tota )

( Moral story in Hindi in short )

तोते की ये सारी बातें सुन कर कोयल भी हैरान रह गया और सोचने लगा कि ये तोता कितना किस्मत वाला है। तभी वह एक कौआ आगया और उसने कोयल स कहा की इसकी बातों पर भरोसा मत करो। मैंने  इसे अभी थोड़ी देर पहले इसी पेड़ पर दना चुगते हुए देखा है। इस पर वो तोता ये बोलते हुए चला गया कि उसके पास फालतू लोगों से बात करने के समय नहीं है।  (Moral Story in Hindi short in short)

Moral story in Hindi in short



इसी तरह वह तोता हर जगह डींगे मारता फिरता था। ( Jhutha Tota ) कभी गाय से कहता कि वो चील से भी ऊंचा उर चुका है। कभी भेड़िए से कहता कि एक बार शेर उस जंगल का राजा चाहता था, पर उसने मना कर दिया। तो कभी हिरण से कहता कि उसके पास बहुत सारा खजाना है, जिससे वो चाहे तो पूरा जंगल खरीद सकता है। इसी तरह डींगे हाकते हुए उसके दिन गुजरते थे।   

फिर एक दिन अचानक उस जंगल में एक कबूतर आया। वह कबूतर बहुत ही प्यारा था। तो सारे पक्षी उसके आस पास आकर झुंड में खड़े हो गए। सारे पक्षी आपस में बातें कर रहे थे कि ये कबूतर कितना सुंदर है। तभी कबूतर ने सभी से कहा कि वो इस जंगल में किसी मकसद से आया है। कबूतर उस तोते को ढूंढ रहा था। तभी वह तोता भी वहां पहुंच गया। ( Moral story in Hindi short in short ) और कहने लगा कि देखा तुमलोगों ने मुझे इस जंगल से बाहर भी कितने सारे लोग जानते हैं। कबूतर कुछ कहने ही वाला था कि फिर से तोता डींगे हकना प्रारंभ कर दिया। कबूतर की सुंदरता देख कर वह कहने लगा कि मुझे एक बार सुंदरता पुरस्कार मिल चुका है। फिर कबूतर कुछ कहने ही वाला था कि तोता फिर से कबूतर को रोक कर कहने लगा " तुम्हे पता है मेरे पास बहुत सारा खजाना है। मैं दावतों में जा कर खाना खाता हूं। मैं बहुत ऊंचा उड़ता हूं।"   ( Kahaniyan moral stories )

Moral story in Hindi in short



तभी पीछे से एक आवाज आई। यह आवाज शेर की थी। शेर ने कबूतर से कहा "कबूतर चलो यहां से। इस तोते के पास सब कुछ है। हम अपने लिए किसी और को ढूंढेंगे।" शेर की ये बात सुन कर किसी को कुछ समझ नहीं आया।  तब फिर कबूतर ने कहा " शेर महाराज ने मुझे भेजा था इस तोते को अपने राजमहल में लाने केलिए। वो इसे अपने साथ राजमहल में रखना चाहते थे। जहां इसे हर तरह की सुख सुविधा मिलती। परन्तु अब मेरे महाराज ने अपना निर्णय बदल लिया है। चुकी इस तोते के पास सब कुछ पहले से ही  है, इसलिए महाराज अब इसे अपने साथ राजमहल नहीं ले जाना चाहते।" इतना कह कर कबूतर और शेर दोनों वहां से चले गए।   ( Hindi kahaniya moral stories in short )

कबूतर की बातें सुन कर तोता जोर जोर से चिल्ला कर कहने लगा कि मेरे पास कुछ भी नहीं है। वो सब मै झूठ बोल रहा था। डींगे हांक रहा था। मुझे कृपा कर के अपने साथ ले चलो। परन्तु तब तक कबूतर और शेर दोनों वहां से जा चुके थे। और अब तोते के पास पछतावे के अलावा कुछ नहीं बचा था।

सीख:-


इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है ( Moral Story in Hindi in short ) कि हमे कभी अपने बारे में कुछ भी बढ़ा चढ़ा कर नहीं बोलना चाहिए। हमेशा अपने बारे में दूसरों को सच कहना चाहिए। नहीं तो कभी कभी डींगे हाखने कि वजह से हमारा ही नुकसान हो जाता है।


Moral of this Hindi Short Story:- 


From this story, we learn that we should never exaggerate anything about ourselves. Always tell others the truth about yourself. Otherwise, sometimes our loss is due to bragging.


Thank you so much for reading this moral story in Hindi in short. I hope you enjoyed this moral story in Hindi in short and also learn a lesson from this short story in Hindi. Click below to read more:-

Post a comment

–>