Lion and Rabbit Story in Hindi Matter for Kids - खरगोश की चतुराई

Lion and Rabbit Story in Hindi Matter for Kids - खरगोश की चतुराई

Lion and Rabbit Story in Hindi : Hello, today I am going to tell you a story of lion and rabbit. This is a story of a foolish lion and the clever rabbit short story matter. This lion and rabbit small story Wikipedia is a very famous story among kids. I hope you will like this Lion and Rabbit Short Story in Hindi matter Wikipedia.

Story of Lion and Rabbit in Hindi - खरगोश की चतुराई


Lion and Rabbit Story in Hindi


किसी घने वन में एक बहुत बड़ा शेर रहता था। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) वह रोज शिकार पर निकलता और एक-दो नहीं कई जानवरों का काम तमाम कर देता। जंगल के जानवर डरने लगे कि अगर शेर इसी तरह शिकार करता रहा तो एक दिन ऐसा आयेगा कि जंगल में कोई भी जानवर नहीं बचेगा। ( Story of Lion and Rabbit )

सारे जंगल में सनसनी फैल गई। शेर को रोकने के लिये कोई न कोई उपाय करना ज़रूरी था। एक दिन जंगल के सारे जानवर इकट्ठा हुए और इस प्रश्न पर विचार करने लगे। अन्त में उन्होंने तय किया कि वे सब शेर के पास जाकर उनसे इस बारे में बात करें। दूसरे दिन जानवरों के एकदल शेर के पास पहुंचा। उनके अपनी ओर आते देख शेर घबरा गया और उसने गरजकर पूछा, ‘‘क्या बात है ? तुम सब यहां क्यों आ रहे हो ?’’

जानवर दल के नेता ने कहा, ‘‘महाराज, हम आपके पास एक निवेदन करने आये हैं। आप राजा हैं और हम आपकी प्रजा है। जब आप शिकार करने निकलते हैं तो बहुत जानवरों को मार डालते हैं। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) आप सबको खा भी नहीं पाते। इस तरह से हमारी संख्या दिन-ब-दिन कम होती जा रही है।

अगर ऐसा ही होता रहा तो कुछ ही दिनों में जंगल में आपके सिवाय और कोई भी जानवर नहीं बचेगा। प्रजा के बिना राजा भी कैसे रह सकता है? यदि हम सभी मर जायेंगे तो आप भी राजा नहीं रहेंगे। ( Story of Lion and Rabbit in Hindi ) परन्तु हम चाहते हैं कि आप सदा हमारे राजा बने रहें। आपसे हमारी विनती है कि आप अपने घर पर ही रहा करें। हर रोज स्वयं आपके खाने के लिए एक जानवर भेज दिया करेंगे। इस तरह से राजा और प्रजा दोनों ही चैन से रह सकेंगे।’’

Lion and Rabbit Story in Hindi


शेर को लगा कि जानवरों की बात में सच्चाई है। उसने पलभर सोचा, फिर बोला अच्छी बात नहीं है। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) मैं तुम्हारे सुझाव को मान लेता हूं। लेकिन याद रखना, अगर किसी भी दिन तुमने मेरे खाने के लिये पूरा भोजन नहीं भेजा तो मैं जितने जानवर चाहूंगा, खत्म कर डालूंगा।’’ जानवरों के पास तो और कोई चारा नहीं। इसलिये उन्होंने शेर की शर्त मान ली और अपने-अपने घर चले गये।

उस दिन से हर रोज शेर के खाने के लिये एक जानवर भेजा जाने लगा। इसके लिये जंगल में रहने वाले सब जानवरों में से एक-एक जानवर, बारी-बारी से चुना जाता था। कुछ दिन बाद खरगोशों की बारी भी आ गई। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) शेर के भोजन के लिये एक नन्हें से खरगोश को चुना गया। वह खरगोश जितना छोटा था, उतना ही चतुर भी था।

उसने सोचा, बेकार में शेर के हाथों मरना मूर्खता है अपनी जान बचाने का कोई न कोई उपाय अवश्य करना चाहिये, और हो सके तो कोई ऐसी तरकीब ढूंढ़नी चाहिये जिसे सभी को इस मुसीबत से सदा के लिए छुटकारा मिल जाये। आखिर उसने एक तरकीब सोच ही निकाली।

खरगोश धीरे-धीरे आराम से शेर के घर की ओर चल पड़़ा। जब वह शेर के पास पहुंचा तो बहुत देर हो चुकी थी।
भूख से शेर का बुरा हाल हो रहा था। जब उसने सिर्फ एक छोटे से खरगोश को अपनी ओर आते देखा तो गुस्से से बौखला उठा और गरजकर बोला, ‘‘किसने तुम्हें भेजा है?

Lion and Rabbit Story in Hindi


एक तो पिद्दी जैसे हो, दूसरे इतनी देर से आ रहे हो। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) जिन बेवकूफों ने तुम्हें भेजा है मैं उन सबको ठीक करूंगा। एक-एक का काम तमाम न किया तो मेरा नाम भी शेर नहीं।’’
नन्हे खरगोश ने आदर से ज़मीन तक झुककर, ‘‘महाराज, अगर आप कृपा करके मेरी बात सुन लें तो मुझे या और जानवरों को दोष नहीं देंगे।

वे तो जानते थे कि एक छोटा सा खरगोश आपके भोजन के लिए पूरा नहीं पड़़ेगा, ‘इसलिए उन्होंने छह खरगोश भेजे थे। लेकिन रास्ते में हमें एक और शेर मिल गया। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) उसने पांच खरगोशों को खा लिया।’’

यह सुनते ही शेर दहाड़कर बोला, ‘‘क्या कहा? दूसरा शेर? कौन है वह? तुमने उसे कहां देखा?’’

‘‘महाराज, वह तो बहुत ही बड़ा शेर है’’, खरगोश ने कहा, ‘‘वह ज़मीन के अन्दर बनी एक बड़ी गुफा में से निकला था।

वह तो मुझे ही खाने जा रहा था। पर मैंने उससे कहा, ‘सरकार, आपको पता नहीं कि आपने क्या अन्धेर कर दिया है। हम सब अपने महाराज के भोजन के लिये जा रहे थे, लेकिन आपने उनका सारा खाना खा लिया है। ( Story of Lion and Rabbit in Hindi ) हमारे महाराज ऐसी बातें सहन नहीं करेंगे। वे ज़रूर ही यहाँ आकर आपको खत्म कर डालेंगे।’

‘‘इस पर उसने पूछा, ‘कौन है तुम्हारा राजा?’ मैंने जवाब दिया, ‘हमारा राजा जंगल का सबसे बड़ा शेर है।’

‘‘महाराज, ‘मेरे ऐसा कहते ही वह गुस्से से लाल-पीला होकर बोला बेवकूफ इस जंगल का राजा सिर्फ मैं हूं। यहां सब जानवर मेरी प्रजा हैं। मैं उनके साथ जैसा चाहूं वैसा कर सकता हूं। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) जिस मूर्ख को तुम अपना राजा कहते हो उस चोर को मेरे सामने हाजिर करो। मैं उसे बताऊंगा कि असली राजा कौन है।’ महाराज इतना कहकर उस शेर ने आपको बुलाने के लिए मुझे यहां भेज दिया।’’

खरगोश की बात सुनकर शेर को बड़ा गुस्सा आया और वह बार-बार गरजने लगा। उसकी भयानक गरज से सारा जंगल दहलने लगा।

‘‘मुझे फौरन उस मूर्ख का पता बताओ’’, शेर ने दहाड़कर कहा, ‘‘जब तक मैं उसे जान से खत्म न कर दूँगा मुझे चैन नहीं मिलेगा।’’ ‘‘बहुत अच्छा महाराज,’’ खरगोश ने कहा ‘‘मौत ही उस कुबुद्धि की सजा है। ( Lion and Rabbit Story in English pdf into Hindi translated ) अगर मैं और बड़ा और मजबूत होता तो मैं खुद ही उसके टुकड़े-टुकड़े कर देता।’’

‘‘चलो, ‘रास्ता दिखाओ,’’ शेर ने कहा, ‘‘फौरन बताओ किधर चलना है ?’’

‘‘इधर आइये महाराज, इधर, खरगोश रास्ता दिखाते हुआ शेर को एक कुएँ के पास ले गया और बोला, ‘‘महाराज, वह दुष्ट शेर ज़मीन के नीचे किले में रहता है। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) जरा सावधान रहियेगा। किले में छुपा दुश्मन खतरनाक होता है।’’ ‘‘मैं उससे निपट लूँगा,’’ शेर ने कहा, ‘‘तुम यह बताओ कि वह है कहाँ?’’

‘‘पहले जब मैंने उसे देखा था तब तो वह यहीं बाहर खड़ा था। लगता है आपको आता देखकर वह किले में घुस गया। आइये मैं आपको दिखाता हूँ।’’

Lion and Rabbit Story in Hindi


खरगोश ने कुएं के नजदीक आकर शेर से अन्दर झांकने के लिये कहा। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) शेर ने कुएं के अन्दर झांका तो उसे कुएं के पानी में अपनी परछाईं दिखाई दी।

परछाईं को देखकर शेर ज़ोर से दहाड़ा। ( Story of Lion and Rabbit in Hindi ) कुएं के अन्दर से आती हुई अपने ही दहाड़ने की गूंज सुनकर उसने समझा कि दूसरा शेर भी दहाड़ रहा है। दुश्मन को तुरंत खत्म कर डालने के इरादे से वह फौरन कुएं में कूद पड़़ा।

कूदते ही पहले तो वह कुएं की दीवार से टकराया फिर धड़ाम से पानी में गिरा और डूबकर मर गया। इस तरह चतुराई से शेर से छुट्टी पाकर नन्हा खरगोश घर लौटा। उसने जंगल के जानवरों को शेर के खत्म हो जाने की कहानी सुनाई।

दुश्मन के खत्म हो जाने की खबर से सारे जंगल में खुशी फैल गई। ( Lion and Rabbit Story in Hindi ) जंगल के सभी जानवर खरगोश की जय-जयकार करने लगे।

सीखः-

अहंकार और क्रोध में आकर लिया गया कोई भी फैंसला हमे अंत की ओर लेकर जाता है।

Moral of this story of Lion and Rabbit:-

Any decision taken in ego and anger leads us to the end.

 

Read More:-


Thank you so much for reading this lion and rabbit story in Hindi matter. I hope you enjoyed this story of foolish lion and clever rabbit in Hindi. Please give feedback if you like this lion and rabbit story in English pdf to Hindi translated. You can find many more interesting stories such as Panchtantra Stories, Biography in Hindi etc.

Post a comment

–>