Tenali Rama Story in Hindi for Kids – रसगुल्ले का स्रोत

Tenali Rama Story in Hindi for Kids – रसगुल्ले का स्रोत

Tenali Rama story in Hindi : You all have heard the name of an intelligent minister of King Krishndevray “ Tenali Rama ”. He was very intelligent. Today I am sharing a Tenali Rama Story in Hindi. This Tenali Rama Story is related to the root of Rasogulla. I hope you will enjoy this Tenali Rama Story in Hindi. 

Tenali Rama Story in Hindi – रसगुल्ले का स्रोत 


Tenali Rama story in Hindi


एक बार की बात है कहीं दूर देश के व्यापारी व्यापार के सिलसिले में राजा कृष्णदेव राय के राज्य में आए थे। ( Tenali rama story in Hindi ) राजा कृष्णदेव राय और उनके मंत्री ने उस व्यापारी का अपने दरबार में खूब स्वागत किया। वहां व्यापारी राजा की आथित्य को देखकर बहुत प्रसन्न हुआ। 

जब भोजन का समय हुआ तो महाराज उस व्यापारी को भोजन कराने ले गए। ( Hindi Short Story for kids ) भोजन करते वक्त महाराज के शाही बावर्ची ने उस व्यापारी को रसगुल्ला दीया। और भंवर जी ने व्यापारी से कहा," यह मिठाई हमारे महाराज को सबसे प्रिय है। हमारे यहां रसगुल्ला बहुत प्रसिद्ध मिठाई है। मैंने आज आपके लिए खास विधि से यह रसगुल्ला तैयार किया है। आपको भी यह बहुत पसंद आएगा।" 

जब व्यापारी ने रसगुल्ला चका तो उसे यह काफी पसंद आया। व्यापारी ने रसगुल्ले की काफी तारीफ की और बात ही बात में बावर्ची से रसगुल्ले के स्रोत के बारे में पूछा। व्यापारी ने भंवर जी से पूछा कि आखिर इस के रसगुल्ले का स्रोत क्या है। 

भंवर जी का यह प्रश्न सुनकर वहां उपस्थित सभी लोग बिल्कुल चुप हो गए। ( Hindi Short Story for kids ) किसी के पास कोई जवाब नहीं था। तभी तेनालीराम ने व्यापारी से कहा," आप अभी यह सारी बातें छोड़िए आप तो अभी बस रसगुल्ले का लुफ्त उठाइए। रसगुल्ले के स्रोत के बारे में मैं आपको कल बताऊंगा।" व्यापारी मान गए और वह रसगुल्ले का लुफ्त लेने लगे। 

जो भोजन समाप्त हुआ और भोजन करके सभी लोग अपने अपने घर से चले गए तब महाराज ने तेनाली का धन्यवाद किया और कहा कि आखिर तुम इसके स्रोत के बारे में कैसे पता लगाओ। आज तक तो मैंने भी इस बारे में कभी नहीं सोचा। तुम कैसे पता लगाओ गे। तेनालीराम ने महाराज को उत्तर दिया," महाराज आप किसी बात की चिंता ना करें। आप अपने कक्ष में जाकर विश्राम करें मैं इसके स्रोत का पता लगा लूंगा।" 

तेनालीराम की बातें सुनकर महाराज संतुष्ट हुए और अपनी कक्ष की ओर चले गए। 

Tenali Rama story in Hindi


Hindi Short Story for kids 

अगले दिन महाराज कृष्ण देव राय की दरबार लगी। ( Hindi Short Story for kids ) और वह व्यापारी भी वहां उपस्थित हुए। व्यापारी ने दरबार में फिर से वही प्रश्न पूछा कि आखिर रसगुल्ले का स्रोत क्या है। तभी तेनाली राम दरबार में आए उनके हाथ में एक कटोरा था और वह कटोरा एक कपड़े से ढका हुआ था। 

तेनालीराम उस कटोरे को लेकर व्यापारी के पास का और उसके ऊपर से वह कपड़ा हटाया। कटोरी में गन्ने के टुकड़े थे। तेनालीराम ने व्यापारी से कहा कि वह उन टुकड़ों को चखें। व्यापारी उस कटोरी में से एक टुकड़ा निकालकर अपने मुंह में डालना और चबाने लगा। तभी तेनालीराम ने कहा," यही है हमारे रसगुल्ले का स्रोत। अपनी कल जो रसगुल्ला खाया वह स्वाद में मीठी थी। और कोई भी पकवान मीठा चीनी की वजह से होता है। और चीनी इसी गन्ने से बनती है। तो इस तरह रसगुल्ले का स्रोत यह गन्ना ही है।" 

तेनालीराम की बातें सुनकर व्यापारी संतुष्ट हुआ और मुस्कुराने लगा। ( Tenali rama story in Hindi ) और महाराज कृष्ण देव राय ने भी तेनाली को शाबाशी दिया और कहा कि तुमने एक बार फिर हमारी लाज रख ली। मैं तुमसे बहुत परेशान हूं। तुम सच में हमारे दरबार की बहुमूल्य रत्न हो। 

Read More:-

I hope you enjoyed this Tenali Rama Story in Hindi. This Hindi short story for kids with moral is good entertaining Tenali Rama Story in Hindi for kids. Please do comment and share what you think about the origin of Rasogulla. You will find many more Tenali Rama Story in Hindi, Motivational Story in Hindi & moral story in Hindi and many more.

Post a comment

–>